कैसे आई वी एफ और अधिक सफल बनाने के लिए करें प्रयास?

ज़िन्दगी संतान के बिना अधूरी-सी होती है और इस सुख से वंचित दुनिया में कई दम्पत्ति मौजूद हैं। उनकी इस समस्या का इलाज आई वी एफ प्रक्रिया द्वारा किया जाता है। दम्पत्तिओं के मन में सबसे पहला प्रश्न यह आता है की आई वी एफ कैसे होता है (IVF Kaisa Hota Hai) और आई वी एफ क्या है?

जब निःसंतान दम्पत्ति एक फर्टिलिटी विशेषज्ञ के पास जाता है तो उन्हें सबसे पहले आई यु आई ट्रीटमेंट की सलाह दी जाती है। हालाँकि, पहली कोशिश में IUI सफलता की दर कम होती है। लेकिन कुछ मामलों में जिनकी बाँझपन की समस्या की गंभीरता कम होती है, ऐसे दम्पत्तियों को पहली कोशिश पर IUI सफलता प्राप्त हो सकती है।

लेकिन यदि समस्या की गंभीरता अधिक हो, तो ऐसे में आई वी एफ की सलाह दी जाती है। क्योंकि आई यू आई की तुलना में आई वी एफ की सफलता दर उच्च है।

आई वी एफ प्रक्रिया क्या है?

आई वी एफ एक मेडिकल प्रक्रिया है, जिसकी मदद से महिला के अंडों को पुरूष के शुक्राणु के साथ लैब में फर्टीलाइज़ किया जाता है। फिर भ्रूण तैयार होने के बाद महिला के गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जाता है। इस दौरान ध्यान रखा जाता है कि सुरक्षित तरीके से भ्रूण बन सकें। आई वी एफ को पहली बार में ही सफल बनाने के लिए कुछ बातों का ध्यान आवश्यक रखें।

जाने किस तरह बनाए आई वी एफ को सफल-

  • संतुलित आहार –

    एक संतुलित आहार पूरी तरह से आई वी एफ प्रक्रिया को सफल बनाने में मदद करता है। भ्रूण स्थानांतरण से कम से कम 3 महीने पहले से ही कोशिश करें कि प्रजनन आहार को अपने दिनचर्या का भाग बना सकें।

  • संतुलित वजन –

    फर्टिलिटी एक्सपर्ट की माने तो एक महिला के शरीर का बॉडी मास इंडेक्स (BMI) 18 से 24 के बीच होना चाहिए। यदि यह बहुत अधिक है तो इसका आपके हार्मोन स्तर पर असर पड़ता है। आई वी एफ प्रक्रिया के दौरान संतुलित वजन रखना महत्वपूर्ण है जिसके लिए आप व्यायाम की मदद से आप अपना वजन कम कर सकती है। पोषण विशेषज्ञों या फिटनेस चिकित्सक से बात करें और देखें कि वह धीरे-धीरे वजन कम करने में आपकी मदद कैसे कर सकते हैं?

  • व्यायाम –

    आई वी एफ प्रक्रिया के दौरान व्यायाम एक महत्वपूर्ण कारक है। व्यायाम करने से वजन तो संतुलित रहता है और साथ ही व्यायाम तनाव दूर करने में भी मदद करता है स्वस्थ रहने के लिए आपका तनावरहित रहना महत्वपूर्ण है।

  • धूम्रपान और शराब का सेवन ना करें –

    धूम्रपान आपके प्रजनन स्वास्थ्य पर बहुत गंभीर प्रभाव डालता है। पुरुषों के लिए यह शुक्राणुओं की संख्या को कम करता है और शुक्राणु की गुणवत्ता को भी प्रभावित करता है। इसका गर्भधारण और गर्भपात दोनों पर ही बड़ा प्रभाव पड़ता है। महिलाओं के धूम्रपान करने का प्रभाव अंडे की गुणवत्ता पर पड़ता है और गर्भ को प्रभावित करता है। साथ ही गर्भावस्था की संभावनाओं को कम करता है और गर्भपात का खतरा बढ़ाता है। अत्यधिक मात्रा में शराब का सेवन शुक्राणु गुणवत्ता को भी प्रभावित करता है।

  • अच्छा आई वी एफ सेंटर –

    आई वी एफ ट्रीटमेंट की सफलता दर इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप आई वी एफ कहाँ से करवाते है? यह एक एहम निर्णय होता है, एक अच्छे आई वी एफ केंद्र के डॉक्टर की काबिलियत, लैब और पुराने सफलता दर आदि को ज़रूर देखें। एक अच्छे डॉक्टर आपको बताते है की कैसे आई वी एफ और अधिक सफल बनाने के लिए प्रयास किया जाए। साथ ही कैसे पहली बार में आई वी एफ सफल बनाने के लिए सुझाव भी देते हैं।

नोट- एक बार जब आप आई वी एफ प्रक्रिया शुरू कर देते हैं तो कड़े व्यायाम से बचें। प्लैंक या पुश-अप कभी-कभी गर्भाशय की परत को प्रभावित कर सकता है। इस समय में शरीर को आराम देना बहुत महत्वपूर्ण है।

आई वी एफ के लिए मेडीकवर फर्टिलिटी एक अच्छा विकल्प है।

मेडीकवर फर्टिलिटी यूरोप के सर्वश्रेष्ठ फर्टिलिटी क्लीनिकों में से एक है। साथ ही यहाँ आधुनिक उपकरणों और तकनीकों की मदद से जाँच की प्रक्रिया की जाती है।

मेडीकवर फर्टिलिटी ने आई वी एफ के कई सफल ट्रीटमेंट किए हैं जिनसे कई लोगों के माता-पिता बनने का सपना पूरा हुआ है। यहाँ के डॉक्टर और एम्ब्र्योलॉजिस्ट्स सभी तरह के ट्रीटमेंट करने के लिए पूरी तरह से सक्षम हैं।

साथ ही मेडीकवर फर्टिलिटी में आपकी जानकारी पूरी तरह से गुप्त रखी जाती है। यदि आपको इस विषय से सबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप इस नंबर पर +917862800700 संपर्क कर सकते है।

FAQs

क्या आप अपने पहले आई वी एफ चक्र पर गर्भवती हो सकती हैं? (Can you get pregnant on your first cycle?)

हाँ, एक महिला का पहली कोशिश में आई वी एफ सफल हो सकता है और एक स्वस्थ गर्भधारण हो सकता है। हालाँकि, यह बाँझपन की समस्या की गंभीरता और समयावधि पर निर्भर कर सकता है।

सफल आई वी एफ के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of successful IVF?)

एक सफल आई वी एफ का मुख्य लक्षण है गर्भधारण होना और उसके साथ गर्भावस्था के लक्षण मौजूद हो सकते है जैसे संवेदनशील स्तन, मितली, थकान, ऐंठन। लेकिन कभी-कभी गर्भावस्था के कोई लक्षण मौजूद ना होने के बावजूद भी आप गर्भवती हो सकती हैं।

आई वी एफ के बाद मैं कितनी जल्दी टेस्ट कर सकती हूँ? (How soon after IVF can I test?)

डॉक्टर आई वी एफ के बाद आपके रक्त परीक्षण का समय निर्धारित करते है। एम्ब्र्यो ट्रांसफर के दो हफ्तों के बाद एच एस जी के लिए रक्त परीक्षण किया जाता है। रक्त में एच सी जी हार्मोन का मतलब होता है प्रेगनेंसी।