Fallopian Tube Blockage Hindi Story

किसी भी इंसान की ज़िन्दगी में 2 पल ऐसे होते हैं जिन्हें वो कभी भी नहीं भूलता। एक वो जब दुनिया उसे ठोकर मार दें या वो आसमान की ऊंचाई पर हो। उसी तरह एक औरत की जिंदगी भी होती है। शादी के कुछ सालों बाद एक बच्चे की ख्वाहिश पूरी ज़िन्दगी बदल देती है, लेकिन बदलते लाइफस्टाइल के साथ गर्भधारण करना आज के समय में आसान नहीं है। ऐसी ही आप बीती कहानी है कल्पना की।

मैंने 25 साल की उम्र में शादी कर अपने घर से विदा हो चली थी। मेरे सुसराल वाले बड़े ही नर्म स्वभाव और मिलनसार थे। लेकिन शादी के 7 साल तक प्राकृतिक रूप से गर्भ न ठहर पाने से सबके स्वभाव में बदलाव महसूस कर सकती थी, पर इन सबके बीच मेरे पति, मेरा पूरा साथ देते थे। समय के साथ आस-पड़ोस वालों के ताने शुरू हो गए, जिसके कारण मेरे ससुराल वाले भी अब कभी-कभी ताने कसने लग गए थे।

एक-एक दिन मेरा अब जीना मुश्किल हो रहा था, रोज़ रात को सोते समय बस एक दुआ करती थी कि हे! भगवान कल का सूरज मैं ना देख सकू। रातों को मेरी सिसकिया और सुबह नम आँखों के देख मेरे पति भी परेशान रहने लगे थे। एक दिन शाम के समय, सभी जब चाय पी रहे थे, उस समय मेरी सांसु माँ ने बातों ही बातों में मेरा इलाज करवाने की बात कहीं, एक लम्बी चर्चा के बाद सबकी रज़ामंदी हुई और रविवार को हम घर के पास एक फर्टिलिटी क्लिनिक पर गए।

डॉक्टर ने हमारे कुछ टेस्ट करवाएं और बताया कि फैलोपियन ट्यूब में ब्लॉकेज के कारण मैं माँ नहीं बन पा रही हूँ। डॉक्टर ने हमें आई वी एफ करवाने की सलाह दी। घर पर विचार कर, आई वी एफ के लिए तैयार हो गए लेकिन मेरे 3 आई वी एफ साइकिल फेल होने से अब सबकी आशा टूट चुकी थी। एक सन्तान के सुख से वंचित मेरे परिवार में निराशा का दामन थाम लिया था। लेकिन एक दिन सुबह अख़बार पढ़ते समय मेरे ससुर जी को यूरोपिन तकनीक से उपचार करने वाले क्लिनिक मेडिकवर फर्टिलिटी के बारे में पता चला और एक आखिरी बार हम लोगों को परामर्श करने की सलाह दी।

मेरी आशा अब पूरी तरह से टूट चुकी थी, लेकिन मेरे पति में कहीं न कहीं अभी भी एक आशा की किरण के रूप में मेडिकवर फर्टिलिटी को देख रहे थे और जल्दी से एक अपॉइंटमेंट फिक्स कर ली। जब हम वहाँ पंहुचे और डॉक्टर को अपनी सारी रिपोर्ट दिखाई और 3 आई वी एफ फेल होने के बात बताई तो उन्होंने हमें धैर्य रखने को कहा और कुछ टेस्ट करवाए। रिपोर्ट के बाद पता चला मेरी फैलोपियन ट्यूब (Fallopian Tube in Hindi) ब्लॉक होने के कारण मेरा गर्भ नहीं ठहर पा रहा था।

डॉक्टर ने आई वी एफ की पूरी प्रक्रिया को समझाया और भरोसा दिलाया कि आशा कभी भी नहीं छोडनी चाहिए। हम दोनों ने बढ़ती उम्र को देखते हुए इलाज शुरू करवाने का फैसला ले लिया। इस प्रक्रिया के दौरान पूरा स्टाफ ने मेरा ख्याल एक परिवार की तरह रखा और आज मेडिकवर के कारण मुझे 2 बच्चों की माँ बनने का सुख मिल पाया है।

लेखक Dr. Sweta Gupta