logo-1

Get In Touch With Us

Donor Egg IVF in Hindi | डोनर एग के साथ आई वी एफ क्या है?

महिला की उम्र 40 वर्ष से अधिक होने पर वह बहुत से बदलावों का अनुभव करती है जैसे- चेहरे पर झुरिया, आंखों का कमजोर होना, बालों का गिरना या सफ़ेद होना आदि के साथ-साथ महिलाओं में प्रजनन क्षमता भी कम हो जाती है। इसलिए एक महिला की उम्र बढ़ने के साथ उसका माँ बन पाना मुश्किल होता चला जाता है। ऐसे में गर्भधारण के लिए आई वी एफ और डोनर एग के साथ आई वी एफ (Donor Egg IVF in Hindi) जैसी तकनीकें मौजूद है।

महिलाओं को उम्र बढ़ने के साथ गर्भधारण होने में क्यों होती है मुश्किलें?

महिलाओं की बढ़ती उम्र के साथ उनकी प्रजनन क्षमता यानि फर्टिलिटी में कमी होना प्राकृतिक है, क्योंकि महिला के अंडाशय में बनने वाले अंडों की मात्रा और गुणवत्ता दोनों ही प्रभावित होते हैं। एक महिला को ना केवल गर्भवती होने में मुश्किल होती है, बल्कि गर्भपात की संभावनाएं भी बढ़ जाती है।

35 वर्ष से ऊपर की महिला यदि माँ बनने की आशा रखती है, तो स्वस्थ गर्भावस्था के लिए डॉक्टर से परामर्श लेना और पूरी तरह से चिकित्सा जांच करना अनिवार्य होता है। उम्र बढ़ने के साथ ओवरियन रिजर्व कम हो जाता है, और अंडों की गुणवत्ता भी खराब हो जाती है जो बांझपन का कारण बन सकती है।

ज़्यादा उम्र में गर्भधारण के लिए क्या करें?

यदि प्रयास करने के बाद भी गर्भधारण नहीं होता है, तो ऐसे में असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्निक (एआरटी) की मदद से गर्भधारण किया जा सकता है। जिसके लिए आई वी एफ और डोनर आई वी एफ जैसी तकनीकें मौजूद है।

IVF - आई वी एफ की प्रक्रिया में महिला के अंडों को बहार निकाल कर, पुरुष के शुक्राणु के साथ लैब में फर्टिलाइज़ किया जाता है। फर्टिलाइज़ होने के बाद तैयार हुए भ्रूण को महिला के गर्भाशय में ट्रांसफर करते हैं।

यदि महिला के अंडों की गुणवत्ता अच्छी ना हो, तो ऐसे में डोनर एग के साथ आई वी एफ (IVF with Donor Egg) पर विचार किया जाता है।

डोनर एग के साथ आई वी एफ क्या है? (Donor Egg IVF in Hindi)

डोनर एग के साथ आई वी एफ की प्रक्रिया (आई वी एफ दाता अंडे प्रक्रिया) में अंडों को एक गुमनाम महिला डोनर के अंडाशय से लिया जाता है। डोनर महिला की जानकारी गुप्त रखी जाती है। अंडे प्राप्त करने से पहले पूरी तरह से उसकी जांच की जाती है। और फिर पुरुष साथी के शुक्राणु के साथ अंडे को फर्टिलाइज़ किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप भ्रूण को महिला के गर्भाशय में ट्रांसफर करते है।

डोनर एग बेबी पूरी तरह से सामान्य बेबी (शिशु) की तरह ही होते है। डोनर एग को पुरुष के शुक्राणु के साथ लैब में फर्टिलाइज़ करने के बाद महिला साथी के गर्भाशय में ट्रांसफर किया जाता है। उसके बाद की गर्भावस्था पूरी तरह से सामान्य गर्भावस्था की तरह ही होती है।

 

बढ़ती उम्र के बावजूद गर्भधारण के लिए मेडिकवर फर्टिलिटी एक अच्छा विकल्प है।

मेडिकवर फर्टिलिटी ने बढ़ती उम्र के बावजूद गर्भधारण के लिए कई सफल ट्रीटमेंट किए है, जिनसे कई महिलाओं को माँ बनने का सुख मिला है। मेडिकवर फर्टिलिटी एक अंतराष्ट्रीय फर्टिलिटी क्लिनिक हैं जो भारत में डोनर एग के साथ आई वी एफ (IVF with Donor Eggs in India) की सुविधा प्रदान करते है। यहाँ के डॉक्टर सभी तरह के ट्रीटमेंट करने के लिए पूरी तरह से सक्षम हैं। यहाँ एडवांस्ड तकनीकों और उपकरणों के प्रयोग से जाँच की जाती है और आपकी जानकारी पूरी तरह से गुप्त रखी जाती है।

मेडिकवर फर्टिलिटी में आर आई विटनेस (RI Witness) का प्रयोग किया जाता है। आई वी एफ लैब में होने वाली संभावित किसी भी प्रकार की गलतियों को रोकने में आरआई विटनेस से मदद मिलती है। इससे यह सुनिश्चित होता है की एम्ब्र्यो के लिए आपका ही सैंपल (एग और स्पर्म) का प्रयोग किया गया है। लोगों में आजकल इसके बारे में फिल्मों को देखने के बाद काफी जागरूकता बढ़ गई है। मेडिकवर फर्टिलटी में यह सुविधा पहले से ही उपलबध है, जिसका लाभ कई दम्पत्तियों को मिला है।

यदि आपको इस विषय या इनफर्टिलिटी से से सबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप इस नंबर पर +917862800700 संपर्क कर सकते हैं।

Frequently Asked Questions

 डोनर एग के साथ आई वी एफ कितना सफल है? (How successful is IVF with donor eggs?)

 डोनर एग के साथ आई वी एफ की सफलता अधिक होती है क्योंकि इसमें अच्छी क्वालिटी वाले अंडे कम उम्र की डोनर से पूरी जांच के बाद लिए जाते है।

 क्या डोनर एग के साथ आई वी एफ सुरक्षित हैं? (Are donor eggs safe?)

 डोनर एग के साथ आई वी एफ पूरी तरह से सुरक्षित है क्योंकि इसमें महिला की पूरी जांच के बाद ही उसे डोनर के लिए चुना जाता है और फिर अंडों का प्रयोग आई वी एफ के लिए करते है।

 क्या एग डोनर का बच्चे पर अधिकार होता हैं? (Does egg donor have rights on baby?)

 एग डोनर के अनुबंध में स्पष्ट रूप से लिखा होता है की डोनर का अंडों से पैदा होने वाले बच्चे पर कोई अधिकार नहीं होगा। साथ ही डोनर एग का प्रयोग किसके लिए किया गया यह बात गुप्त रखी जाती है।

 कैसे अंडाशय में अंडे बढ़ाने के लिए करें प्रयास?

 अंडाशय में अंडों की बढ़ाने के लिए डॉक्टर कुछ दवाइयों या इंजेक्शन की सलाह दे सकते है साथ ही डॉक्टर की सलाह की अनुसार आपको जीवनशैली में बदलाव करना चाहिए।