What is Sperm in Hindi?

शुक्राणु (Sperm in Hindi) जिसे अंग्रेजी में स्पर्म कहा जाता है। यह पुरुष के सीमेन के अंदर मौजूद होते हैं। इसकी उपस्थिति ही एक महिला को माँ बनने में संयोग करती है।
शुक्राणु क्या है?
शुक्राणु क्या है?

शुक्राणु क्या है? (Sperm Kya Hai)

शुक्राणु (स्पर्म इन हिंदी) पुरुष के वीर्य में मौजूद होते हैं। शुक्राणु महिला के अंडे के साथ निषेचित होकर एक बच्चे को पैदा करने के लिए जिम्मेदार होता है। पुरुषों में शुक्राणु का उत्पादन वृषण यानि टेस्टिकल में होता है।

सक्रिय शुक्राणु क्या है?

सक्रिय शुक्राणु (स्पर्म इन हिंदी) का अर्थ है अच्छे शुक्राणु (स्पर्म) जिसकी पहचान इन तीन चीज़ो को देखने के बाद होती है-

  • शुक्राणु की संख्या
  • शुक्राणु की गति
  • शुक्राणु का आकार

यह तीनों चीज़े एक सक्रिय शुक्राणु की गुणवत्ता को दर्शाती है।

इन तीनों बात का अर्थ क्या है?

  • शुक्राणु की संख्या

एक सीमेन के नमूने (sample) में 40 से 300 मि.ली शुक्राणु (स्पर्म इन हिंदी) होना आवश्यक है। विश्‍व स्वास्थ्‍य संगठन (WHO) के हिसाब से यदि किसी के सीमेन के नमुने में 15/ मि.ली से कम शुक्राणुओं की मात्रा है तो उस पुरुष को पिता बनने में समस्या होगी।

  • शुक्राणु की गति

विश्‍व स्वास्थ्‍य संगठन (WHO) के हिसाब से एक सीमेन के नमूने में 40% शुक्राणु सक्रिय होने चाहिए। जिनकी गति 25μm/s होनी आवश्यक है।

  • शुक्राणु का आकार

यह सबसे अधिक ज़रूरी हिस्सा होता है। शुक्राणु का आकर तीन भाग में विभाजित है- सिर, गर्दन और पूँछ।

सिर

शुक्राणु का सिर का हिस्सा हमेशा अंडाकार का होना चाहिए। इस हिस्से में एक्रोसोम मौजूद होता है।

एक्रोसोम क्या है? - एक्रोसोम ऐसा अंग है जो शुक्राणु के सिर के आधे हिस्से में मौजूद होता है, जो कि एक प्रकार का एंजाइम छोड़ता है। यह एंजाइम निषेचन करने की क्रिया का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। पुरुष की आनुवंशिक (genetic) जानकरी यही मौजूद रहती है।

मध्य भाग

मध्य भाग को गर्दन भी कह सकते हैं। यह शुक्राणु का सबसे ताकतवर हिस्सा होता है। इस हिस्से में माइटोकांड्रिया होता है जो इसके तैरने के लिए मददगार होता है।

पूँछ

शुक्राणु का तीसरा हिस्सा पूँछ है जिसमें प्रोटीन होता है। जिससे वह अपने आपको आगे की तरफ बढ़ा पाता है। एक शुक्राणु का पूरा आकार सिर से लेकर पूँछ तक 0.05 होता है।

असक्रिय शुक्राणु क्या है?

असक्रिय शुक्राणु का अर्थ है बेकार शुक्राणु जो कई तरह के होते हैं। जैसे कि दो सिर, छोटे सिर, बड़े सिर, पतली या मुड़ी हुई गर्दन, दो पूँछ या दो से अधिक पूँछ का होना असक्रिय शुक्राणु की पहचान है।

शुक्राणु की जीवित आयु

सीमेन के रूप में शुक्राणु बाहर आते हैं। यदि शुक्राणु एक बार महिला के गर्भाशय में चला जाए तो उसकी आयु 3 से 5 दिन तक की होती है।

शुक्राणु के लिए क्या है हानिकारक

स्पर्म क्या है (व्हाट इस स्पर्म) और एक सक्रिय शुक्राणु की पहचान कैसे कर सकते है, इस जानकारी के अलावा महत्वपूर्ण है की शुक्राणु के लिए कौन सी ऐसी चीज़े है जो हानिकारक होती है।

शुक्राणु पर तापमान का असर पड़ता है जैसे कि शुक्राणु की संख्या सर्दियों में बढ़ जाती है और गर्मियों में कम हो जाती है। इसका कारण गरम पानी से नहाना या लैपटॉप को गोद में रखकर काम करना हो सकता है। इसके सिवा किसी भी तरह के नशे भी शुक्राणु को हानि पहुँचा सकते हैं।

मेडीकवर फर्टिलिटी द्वारा पिता बनने में संयोग

शुक्राणु पुरुष का सबसे ज़रूरी भाग होता है और शुक्राणु में किसी भी तरह की कमी आ जाए तो पिता बनना मुश्किल हो सकता है। मेडीकवर फर्टिलिटी एक यूरोप की सर्वश्रेष्ठ फर्टिलिटी क्लीनिकों में से हैं जो आधुनिक उपकरणों की मदद से शुक्राणु में होने वाली समस्या का पता लगाकर, पिता ना बनने की समस्या का समाधान करने में सक्षम है। मेडिकवर फर्टिलिटी ने शुक्राणु की समस्या से परेशान कई लोगों के सफल इलाज से उनके माता-पिता बनने के सपने को पूरा किया है।

मेडीकवर फर्टिलिटी में आपकी जानकारी पूर्ण रूप से गुप्त रखी जाती है। यदि आपको इस विषय से सबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप इस नंबर पर +917862800700 संपर्क कर सकते हैं।

FAQs

प्रश्न: स्पर्म क्या है? (Shukranu kya hai?)

उत्तर: शुक्राणु सेमिनल वेसिकल्स फ्रुक्टोज और अन्य पदार्थों से भरपूर पीले रंग के चपिचिपे तरल पदार्थ से बने होते हैं, जो पुरुष के वीर्य में मौजूद होते है।

प्रश्न: शुक्राणु का उद्देश्य क्या है? (What is the purpose of sperm?)

उत्तर: शुक्राणु का प्राथमिक कार्य है अंडे को निषेचित करना और एक नए जीव यानि शिशु के जन्म में सहयोग करना। स्खलन के समय लाखों शुक्राणु बहार निकलते हैं लेकिन गर्भावस्था होने के लिए अंडे के साथ मिलने के लिए केवल 1 शुक्राणु कोशिका की ज़रूरत होती है।

प्रश्न: शुक्राणु का उत्पादन कहाँ होता है? (Where is sperm produced?)

उत्तर: पुरुषों में शुक्राणु का उत्पादन वृषण यानि टेस्टिकल में होता है। और प्रत्येक अंडकोष के बगल में, एपिडीडिमिस (जो एक हल्के रंग की ट्यूब होती है) में शुक्राणु जमा होते हैं।