Uterus Problem in Hindi

गर्भाशय (Uterus in Hindi) यानि यूट्रस महिला प्रजनन प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इस अंग में भ्रूण प्रत्यारोपण होकर एक बच्चे में विकसित होता है।
Uterus Problem in Hindi
Uterus Problem in Hindi

गर्भाशय क्या है? (What is Uterus in Hindi?)

गर्भाशय (यूटेरस इन हिंदी) महिला के शरीर में एकमात्र उपयुक्त हिस्सा है जो मानव भ्रूण के विकास का समर्थन कर सकता है। अगर किसी महिला को गर्भाशय की समस्या होती है तो यह सीधे उसकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है।

जाने गर्भाशय की समस्या के लक्षण (Uterus Problems in Hindi)

गर्भाशय से जुड़ी कुछ समस्या (यूट्रस प्रॉब्लम इन हिंदी) जो एक महिला को हो सकती है:-

  • पॉलीप्स (Poylps) –

गर्भाशय बाँझपन का सबसे आम कारण पॉलीप्स है। यह गर्भाशय अस्तर की असामान्य वृद्धि है। पॉलीप्स गर्भाशय में ट्यूमर की तरह वृद्धि करता है। यह पॉलीप्स एंडोमेट्रियल कैविटी (Endometrial Cavity) के विपरीत बढ़ते हैं और प्रत्यारोपण और अवधारणा की संभावना को बाधित कर सकते हैं।

  • फाइब्रॉइड (Fibroid) –

महिलाओं के गर्भाशय में फाइब्रॉइड (Uterus Fibroid in Hindi) को मायोमा के नाम से भी जाना जाता है। आमतौर पर मायोमा गर्भधारण में हस्तक्षेप नहीं करते हैं, लेकिन कभी-कभी समस्या हो सकती है और डॉक्टर आमतौर पर गर्भावस्था के साथ आगे बढ़ने से पहले फाइब्रॉएड को हटाने की सलाह देते हैं। फाइब्रॉएड कभी-कभी प्रत्यारोपण में बाधा उत्पन्न कर सकते है।

  • इंट्रायूटरिन आसंजन (Intrauterine Adhesions) –

गर्भाशय अस्तर या एंडोमेट्रियम (Endometrium) में किसी प्रकार की सूजन, गर्भाशय की अस्तर में होने वाली प्रत्यारोपण को प्रभावित करती है। यदि किसी के गर्भाशय की सर्जरी हुई हो जैसे की सीज़ेरियन सेक्शन (Caesarean Section), डी एंड सी (D&C) या फाइब्रॉएड (Fibroids) को हटाया गया हो जिसके चलते गर्भाशय अस्तर पर निशान (Scar Tissues) आ जाते है। यदि समय से उपचार करवाया जाए तो माँ को एक सफल गर्भावस्था हो सकती है। इसे एशरमैन सिंड्रोम भी कहा जाता है। कभी-कभी काफी ख़राब स्थिति में सरोगेसी कराना पड़ता है। लेकिन समय के साथ उपचार संभव है और महिला को एक सफल गर्भावस्था हो सकती है।

  • पतला एंडोमेट्रियल अस्तर (Thin Endometrial Lining) –

जब गर्भाशय का अस्तर बहुत पतला होता है तो यह गर्भावस्था का समर्थन नहीं कर सकता है। गर्भाशय अस्तर >8 मम. होना चाहिए ताकि भ्रूण प्रत्यारोपण हो सके और <7 मम. से कम होने पर भ्रूण प्रत्यारोपण नहीं हो पाता है। गर्भाशय की अस्तर को अल्ट्रासाउंड के माध्यम से चेक किया जा सकता है।

  • जन्मजात गर्भाशय असामान्यताएं (Congenital Uterine Abnormalities) –

कुछ महिलाएं असामान्य आकार वाले गर्भाशय के साथ पैदा होती है, लेकिन आमतौर पर उन्हें उस समय के दौरान पता चलता है जब महिला बच्चा पैदा करना चाहती है या वह बच्चा पैदा नहीं कर पाती है। गर्भाशय की समस्याएं कई प्रकार की होती हैं और इनमें से कई गर्भधारण करने या बच्चे को अवधि तक ले जाने की क्षमता को गंभीर रूप से बाधित कर सकती हैं। गर्भाशय की असामान्यताएं आमतौर पर गर्भपात का कारण बनती हैं।

  • गर्भाशय की असामान्यताए कुछ इस प्रकार की होती हैं जैसे यूनिकोरुएट, सेप्टेट या बाइकोर्नुएट गर्भाशय जो गर्भावस्था को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है। अगर माँ गर्भधारण करने में सक्षम है तो उसे गर्भपात होने का ख़तरा बना रहता है।
  • गर्भाशय दिल के आकार वाला (Heart Shaped Uterus) भी होता है। जबकि दिल के आकार वाले गर्भाशय वाली महिला गर्भधारण कर सकती है, लेकिन कभी-कभी वह बच्चे को पैदा करने में सक्षम नहीं हो सकती है क्योंकि हृदय के आकार वाला गर्भाशय बच्चे के विकास का समर्थन नहीं करता है।
  • टी आकार का गर्भाशय बहुत दुर्लभ होता है, लेकिन यदि महिला को टी आकार के गर्भाशय में गर्भधारण होता है, तो उसे गर्भपात या पूर्ववर्ती जन्म देने की संभावना रहती है। आमतौर पर ऐसी जन्मजात गर्भाशय असामान्यताओं के साथ एक महिला गर्भधारण करने में सक्षम नहीं होती है और यह भी सलाह दी जाती है कि जोखिम भी ना लें।

सौभाग्य से गर्भाशय असामान्यताएं बहुत दुर्लभ हैं। गर्भाशय बाँझपन से बहुत कम महिलाएं पीड़ित होती हैं। यदि आपके गर्भाशय में बाँझपन की स्थिति है तो डॉक्टर आमतौर पर गर्भपात या पूर्ववर्ती जन्म के जोखिम के बजाय सरोगेट गर्भावस्था की सलाह देते हैं।

गर्भाशय की समस्या की सफल कहानी (Uterus Problem Success Story in Hindi)

शादी के चार साल बाद तक भी कई कोशिशों के बाद भी जब हमारा बच्चा नहीं हुआ, तब एक दिन मैंने फर्टिलिटी डॉक्टर के पास जाने का फैसला लिया। इंटरनेट पर ढूंढ़ने से पता चला की हमारे घर के पास ही मेडिकवर फर्टिलिटी क्लिनिक है, जो निःसंतानता के लिए इलाज की सुविधा देते है।

अगले दिन ही मैं अपने पति के साथ वहाँ गई और हम डॉक्टर से मिलें। डॉक्टर ने हमें कुछ टेस्ट करवाने की सलाह दी। टेस्ट की रिपोर्ट्स के बाद पता चला की मेरे गर्भाशय में समस्या थी। डॉक्टर ने बताया मेरे गर्भाशय में पोलिप्स होने के कारण मेरा गर्भधारण नहीं हो पा रहा था।

उसके बाद डॉक्टर ने मेरा इलाज शुरू कर दिया और सही इलाज और आई वी एफ ट्रीटमेंट की मदद से मेरा गर्भधारण हुआ।

मेडिकवर की वजह से ही मुझे माँ बनने का सुख मिला है। मैं मेडिकवर फर्टिलिटी को दिल से धन्यवाद कहना चाहती हूँ।

मेडीकवर फर्टिलिटी एक अच्छा विकल्प है

मेडीकवर फर्टिलिटी यूरोप के सर्वश्रेष्ठ फर्टिलिटी क्लीनिकों में से है। साथ ही आधुनिक उपकरणों से इलाज की प्रक्रिया की जाती है। यहाँ के डॉक्टर सभी तरह के ट्रीटमेंट करने के लिए पूर्ण रूप से सक्षम हैं। साथ ही मेडीकवर फर्टिलिटी में आपकी जानकारी पूर्ण रूप से गुप्त रखी जाती है।

मेडीकवर फर्टिलिटी ने आई वी एफ के कई सफल ट्रीटमेंट किए हैं जिनसे कई लोगों को माता-पिता बनने का सुख प्राप्त हुआ है। यदि किसी महिला के गर्भाशय पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो, तो वह महिला सरोगेसी का सहारा ले सकती है।

यदि आपको इस विषय से सबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप इस नंबर पर +917862800700 संपर्क कर सकते हैं।

FAQs

प्रश्न: गर्भाशय कितना बड़ा होता है? (How large is uterus?)

उत्तर: सामान्य रूप से गर्भाशय, जिसे एक महिला के गर्भ के रूप में भी जाना जाता है, 3 से 4 इंच लम्बा और 2.5 इंच की चौड़ा होता है। साथ ही इसका आकार उलटे नाशपाती की तरह होता है।

प्रश्न: अंडाशय और गर्भाशय के बीच अंतर क्या है? (What is the difference between ovary and uterus?)

उत्तर: अंडाशय और गर्भाशय दोनों ही महिला प्रजनन के अंग है दोनों में अंतर यह है की अंडाशय में अंडों का उत्पादन और विकास होता है, जबकि गर्भाशय (जिसे आम भाषा में कोख कहा जाता है) में भ्रूण का विकास होता है।

प्रश्न: गर्भाशय (Uterine in Hindi) के कैंसर का पहला संकेत क्या है? (What is the first sign of Uterine cancer?)

उत्तर: गर्भाशय के कैंसर के पहले कुछ मुख्य संकेत हो सकते है- असामान्य योनि स्राव (जिसमें रक्त के लक्षण नहीं होते हैं), पेशाब के दौरान कठिनाई या दर्द होना, संभोग के दौरान दर्द, पैल्विक क्षेत्र में दर्द आदि।