PCOS in Hindi

हर इंसान की ज़िन्दगी में एक महिला का बहुत महत्वपूर्ण भाग होता है लेकिन इस बात से वाकिफ़ लोग भी महिला की बीमारियों को अनदेखा कर देते हैं, जिसका परिणाम आने वाले भविष्य में नज़र आता है। महिला आज के समय में अपना ध्यान नहीं रखती जिसके कारण उनको काफ़ी तरह की गभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिसमें पीसीओएस / पीसीओडी (PCOS/PCOD) अधिक नज़र आने लगा है। पीसीओएस की समस्या पहले के समय में 30 से 35 वर्ष की आयु की महिला को होती थी लेकिन बदलते लाइफस्टाइल और डाइट के कारण यह स्कूल जाने वाली बच्चियों में अब नज़र आने लगी है। इसके बावजूद अधिकाँश महिलाओं को इस बाद की पूरी जानकारी नहीं है की पीसीओएस क्या है? इस समस्या का बढ़ना, आने वाले भविष्य की समस्याओं का इशारा हो सकता है।
PCOS in Hindi
PCOS in Hindi

पीसीओएस क्या होता है? (PCOS in Hindi)

पीसीओएस या पीसीओडी (PCOS OR PCOD) का अर्थ ‘पॉली सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम’ या ‘पॉली सिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर’ है। यह समस्या आमतौर पर महिलाओं के अंदर हॉर्मोनल असंतुलन (Hormonal Imbalance) के कारण उत्पन्न हो जाती है। इसमें महिला के शरीर में मेल हार्मोन ‘एण्ड्रोजन’ (Male Hormone ‘androgen’) का लेवल बढ़ जाता है और अंडाशय पर एक से ज़्यादा सिस्ट होने लगते हैं।

पीसीओएस के लक्षण (PCOS Ke Lakshan)

  • सबसे पहला लक्षण है अनियमित मासिक धर्म
  • बढ़ता वजन इस समस्या को बुलावा दे सकता है
  • अनचाहे अंगों पर बालों का उगना जैसे ठोड़ी, चेहरे, छाती, पीठ, पेट आदि
  • बालों का झड़ना
  • त्वचा संबंधी कोई समस्या
  • व्यवहार या स्वभाव में बदलाव होना जैसे कि अचानक से उदास हो जाना, चिंता में डूबे रहना, चिड़चिड़ा महसूस करना आदि
  • बार-बार गर्भपात होना
  • गर्भधारण में समस्या
  • थकावट रहना
  • अंडाशय में सिस्ट
  • इंसुलिन प्रतिरोध
  • उच्च टेस्टोस्टेरोन स्तर
  • डिप्रेशन या एंग्जायटी

यदि इनमे से कोई भी कारक नज़र आता है तो तुरंत अपनी दिनचर्या में बदलाव लाए। साथ ही डॉक्टर से परामर्श लें।

कैसे पीसीओएस से बचाव किया जाए

पीसीओएस का कई मामलों में पता नहीं लग पाता है। फिर भी इसके बचाव के लिए आप अपनी दिनचर्या में बदलाव कर, इस समस्या से बच सकते हैं।

अपने व्यस्त लाइफस्टाइल से सुबह या शाम का समय निकालकर सैर पर जाए। डांस, स्विमिंग, एरोबिक्स, ज़ुम्बा, योग, किसी भी तरह का शरीरिक व्यायाम करने का प्रयास करें।

अपने भोजन में बदलाव कीजिए

भोजन का सेवन सही समय पर कीजिए साथ ही आहार में पौष्टिक तत्वों का सेवन करें। जंक फ़ूड, मीठा, तैलिय पदार्थ, कोल्डड्रिंक आदि का सेवन बंद कर दें। यदि बंद नहीं कर सकते तो धीरे-धीरे इनका सेवन कम कर दें।

पीसीओएस डाइट चार्ट

  • धूम्रपान -धूम्रपान व् शराब का सेवन बंद करें।
  • साल्मपन मछली -इस मछली के सेवन से शरीर को ओमेगा 3 फैटी एसिड मिलता है जो कि ग्लाइसेमिक इंडेक्स (Glycaemic Index) के अंदर कम होता है। साल्मन मछली के सेवन से दिल के साथ महिलाओं में एण्ड्रोजन हार्मोन के लेवल को भी सामान्य रखने में मददगार है।
  • सलाद पत्ता -इस बात से सभी वाकिफ़ है कि हरी पत्तेादार सब्जियों में पौष्टिकता होती हैं। पीसीओएस में इंसुलिन प्रतिरोध एक आम कारण है इसलिए अपने आहार में सलाद पत्तों को शामिल ज़रूर करें।
  • दालचीनी -यह हर घर में आसानी से मिलने वाला मसाला है जो शरीर में इंसुलिन लेवल (Insulin level) को बढ़ने से रोकने में सक्षम है। साथ ही इसके सेवन से बढ़ता वजन भी रोका जा सकता है।
  • ब्रॉक्लीस -इस हरी सब्‍जी में विटामिन मौजूद होते हैं। लेकिन इसमें एंटीऑक्सीडेंट, आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन ए और सी होने से महिला के शरीर को पूर्ण आहार मिल जाता है।
  • मशरूम -मशरूम ओवरी सिस्ट्स की समस्या में काफी लाभदायक होता है क्योंकि इसमें कम कैलोरी और कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (Glycaemic Index) होता है।
  • टूना मछली -टूना मछली में ओमेगा 3 फैटी एसिड विटामिन मौजूद होता है जो शरीर के लिए बहुत पौष्टिक है।
  • टमाटर -टमाटर के अंदर मौजूद लाइकोपीन (Lycopene) वजन कम करने में मददगार होता है साथ ही इस बीमारी से बचाव भी करता है।
  • शकरकंद -यदि आप मीठा खाने का शौक़ रखती है तो कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (Glycaemic Index) वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करें।
  • अंडा -अंडे में बहुत पौष्टिक तत्व होते हैं। लेकिन इसके भीतर का पीला भाग निकाल कर सेवन करें क्योंकि इसमें हाई कोलेस्ट्रॉल होता है। जिससे दिल को नुकसान पंहुचता है।
  • दूध -जिन महिलाओं को पीसीओएस की समस्या होती है उन्हें कैल्शिकयम युक्त भोजन का सेवन करना चाहिए। कैल्शिसयम युक्त भोजन अंडों के विकास में मदद करता है। दूध में कैल्शिहयम अधिक मात्रा में होता है जो हड्डियों को मजबूत करता है। पीसीओएस की समस्या से जूझ रही महिलओं को सलाह दी जाती है कि रोज़ाना सुबह-शाम बिना फैट वाले दूध का सेवन करें।
  • दही -दही में कैल्शियम मौजूद होता है जो की महिलाओं में मूत्राशय पथ के संक्रमण से लड़ने में मदद करता है।
  • पालक -पालक को सुपर फ़ूड कहा जाता है जिसमें बहुत कम कैलोरी मौजूद होती है।
  • मुलहठी -मुलहठी के सेवन से महिला के शरीर में मौजूद पुरुष हार्मोन में कमी आने लगती है जिससे पीसीओएस की समस्या में राहत मिलती है।

पीसीओएस का उपचार (PCOS Treatment in Hindi)

  • डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाइयों के सेवन से हार्मोन को संतुलन में लाया जा सकता है जिससे पीसीओएस की समस्या से राहत मिल सकती है।
  • ओव्यूलेशन इंडक्शन भी एक उपचार के तौर पर करवाया जा सकता है।

पीसीओएस और गर्भधारण

यदि पीसीओएस की समस्या के कारण आप गर्भधारण करने में असक्षम है तो उसके लिए एकमात्र उपचार आई वी एफ है। आई वी एफ ट्रीटमेंट से पहले हार्मोनल असंतुलन को दवाइयों की मदद से नियंत्रण किया जाता है। उसके बाद आई वी एफ की प्रक्रिया की जाती है। आई वी एफ की प्रक्रिया में अंडे को शुक्राणु के साथ लैब में निषेचित किया जाता है और निषेचन की प्रक्रिया के बाद जो भ्रूण बनता है उसे महिला के गर्भाशय में ट्रांसफर किया जाता है।

पीसीओएस की सफल कहानी (PCOS Success Story in Hindi) 

हमारी शादी को पाँच साल से भी ज़्यादा समय हो गया था। फिर भी कई कोशिशों के बाद भी हमें बच्चा पैदा करने में दिक्कतें आ रही थी। हालाँकि, मुझे पता था की मुझे पीसीओएस की समस्या है लेकिन कई इलाज करवाने के बाद पता चला की मेरे पीसीओएस की समस्या के कारण ही मेरा गभधारण नहीं हो रहा था। एक दिन मेरी सहेली ने मुझे फर्टिलिटी डॉक्टर के पास जाने की सलाह दी और मेडिकवर फर्टिलिटी के बारे में बताया।

अगले दिन ही मैं और मेरे पति वहाँ गए और डॉक्टर से मिले। डॉक्टर ने बताया pcos क्या है और किस तरह पीसीओएस की समस्या के बावज़ूद भी गर्भधारण हो सकता है। उसके बाद हमने इलाज शुरू करवाया और आज एक बच्चे के साथ मेरा परिवार पूरा है। मैं मेडिकवर फर्टिलिटी को दिल से धन्यवाद कहना चाहती हूँ।

मेडीकवर फर्टिलिटी एक अच्छा विकल्प है

मेडीकवर फर्टिलिटी यूरोप के सर्वश्रेष्ठ फर्टिलिटी क्लीनिकों में से है। साथ ही यहाँ आधुनिक उपकरणों से इलाज की प्रक्रिया की जाती है। यहाँ के डॉक्टर सभी तरह के टेस्ट करने के लिए पूर्ण रूप से सक्षम है। साथ ही मेडीकवर फर्टिलिटी में आपकी जानकारी पूर्ण रूप से गुप्त रखी जाती है।

पीसीओएस वाली महिलाओं को उनके हार्मोनल असंतुलन के कारण गर्भधारण के साथ गंभीर समस्या का सामना करना पड़ सकता है। जो महिलाएं बांझपन की समस्या के कारण माँ बनने के सुख से वंचित हैं। उन महिलाओं के लिए आई वी एफ ट्रीटमेंट किया जाता है। मेडीकवर फर्टिलिटी ने कई आई वी एफ के सफल ट्रीटमेंट किए हैं, जिनसे कई लोगों को माता-पिता बनने का सुख प्राप्त हुआ है।

यदि आपको इस विषय से सबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप इस नंबर पर +917862800700 संपर्क कर सकते हैं।

FAQs

प्रश्न: अगर मुझे पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम है तो क्या मैं गर्भवती हो सकती हूँ? (Can I get pregnant if I have polycystic ovaries?)

उत्तर: पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) महिला बांझपन के सबसे आम कारणों में से एक है। लेकिन जीवनशैली में बदलाव, सही उपचार और दवाइयों की मदद से गर्भधारण हो सकता है।

प्रश्न: PCOS का पहला संकेत क्या हैं? (What are the first sign of PCOS?)

उत्तर: PCOS के सामान्य लक्षण हो सकते है अनियमित पीरियड्स या बिल्कुल भी पीरियड्स का ना होना, बाँझपन, वजन बढ़ना, सिर से बालों का झड़ना और तैलीय त्वचा या मुँहासे।

प्रश्न: क्या पीसीओएस का इलाज संभव है? (Is PCOS curable?)

उत्तर: अभी तक कोई इलाज नहीं है, लेकिन जीवनशैली में बदलाव, संतुलित आहार, और दवाइयों से आप पीसीओएस के लक्षणों को कम या खत्म कर सकते हैं और बेहतर महसूस कर सकते हैं। इसके अलावा महिलाओं को गर्भवती होने में मदद करने के लिए फर्टिलिटी ट्रीटमेंट उपलब्ध हैं।