Ovarian Cyst in Hindi

ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst in Hindi) अंडाशय या उसकी सतह पर गांठ यानि थैली जैसे होते हैं। यह महिलाओं में पाई जाने वाली के आम बीमारी है। साथ ही इस कारण से महिलाओं में बांझपन की समस्या भी हो सकती है। विस्तार से जानते है ओवेरियन सिस्ट क्या होता है? (Ovarian Cyst Kya Hota Hai)

ओवेरियन सिस्ट क्या है? (What is Ovarian Cyst in Hindi)

ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst Meaning in Hindi) अंडाशयों में बनने वाले सिस्ट होते है जो एक थैली में भरे हुए तरल प्रदार्थ यानि एक गांठ की तरह होते हैं। इन्हे अंडाशय सिस्ट (Ovary Cyst in Hindi) और ओवरी में गांठ के नाम से भी जाना जाता है। महिलाओं में दो अंडाशय होते हैं - जो गर्भाशय के दोनों तरफ होते है। यह बादाम के आकर के जैसे होते है। अंडाशय में मौजूद अंडे महिला के गर्भधारण में एहम भूमिका निभाते है। इसलिए अंडाशय में सिस्ट (Cyst in Ovary Meaning in Hindi) बनने के कारण अंडे अंडाशय से बहार नहीं निकल पाते है और यह समस्या बाँझपन के रूप में सामने आती है।

ओवेरियन सिस्ट के लक्षण (Ovary Cyst Symptoms in Hindi)

सिस्ट का मतलब गांठ भी होता है। जब तक सिस्ट या गांठ एक बड़ा आकार ना ले लें, तब तक अंडाशय में गांठ बनने के कोई स्पष्ट लक्षण दिखाई नहीं देते हैं।

ओवेरियन सिस्ट के आम लक्षण (Ovarian Cyst Symptoms in Hindi) इस प्रकार हो सकते है जैसे -

  • पेट में दर्द
  • श्रोणि में दर्द होना
  • संभोग के दौरान अधिक दर्द होना
  • अनीयमित पीरियड्स
  • पेट का फूलना या सूजन आना
  • कमर का आकार बढ़ना
  • कम भूख लगना
  • बार-बार पेशाब आना
  • मलाशय या मूत्राशय पर दबाव

यह सब ओवरी में सिस्ट (ovarian cyst ke lakshan in hindi) के लक्षण हो सकते है, इनमे से कोई भी लक्षण के महसूस होने पर अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें।

ओवेरियन सिस्ट के कारण (Causes of Ovarian Cyst in Hindi)

फंक्शनल आवेरियन सिस्ट - यह एक महिला के अंदर गर्भावस्था के दौरान पाई जाती है। इससे आपको या आपके बच्चे के लिए कोई परेशानी नहीं होती है। यह दो प्रकार की होती है- फॉलिक्युलर सिस्ट और ल्युटियम सिस्ट।

  • फॉलिकुलर सिस्ट- ओवरी में तरल पदार्थ युक्त थैली जिसमे अंडे मौजूद होते है, उसे फॉलिकल कहा जाता है। आमतौर पर हर माह ये थैली फट जाती है और अंडे इससे बाहर निकल जाते हैं। लेकिन जब यह थैली फटने में असमर्थ होती है, तो अंडाशय में मौजूद तरल पदार्थ सिस्ट या गांठ का रूप ले लेता है।
  • कॉपर्स ल्यूटियम सिस्ट- यह सिस्ट आमतौर पर फॉलिकल निकलने के बाद स्वयं ही नश्ट हो जाते हैं। लेकिन किसी कारण अगर यह नश्ट नहीं हो पाते हैं, तो इसमें अधिक तरल जमा हो जाता है और कॉपर्स ल्यूटियम सिस्ट बनने का कारण बन जाता है।

पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम - महिलाओं में पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम या पीसीओएस एक हार्मोनल समस्या है। इस बीमारी में ओवरी के अंदर छोटी-छोटी गांठे या सिस्ट बन जाते है। जिसके कारण महिलाओं को बांझपन की समस्या हो सकती है।

ओवेरियन सिस्ट का इलाज (Ovarian Cyst Treatment in Hindi)

ओवरी में सिस्ट (Ovary Me Cyst in Hindi) का इलाज रोगी की आयु, सिस्ट के प्रकार, आकार और लक्षणों पर निर्भर करता है।

हलाकि कुछ हफ्तों या महीनों के बाद ज़्यादातर सिस्ट गायब हो जाते हैं। अगर कोई लक्षण नहीं है और एक अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में केवल एक साधारण छोटी गांठ नज़र आती है, तो कुछ समय तक इंतजार करने और फिर दुबारा से जांच करने की सलाह दी जाती है।

अगर यह सिस्ट अपने आप ठीक नहीं होते है तो इन सिस्ट को हटाया और निकाला जाता है। ओवेरियन सिस्ट के उपचार के लिए डॉक्टर आपको कुछ सलाह दे सकते है। जैसे कुछ ओवेरियन सिस्ट ट्रीटमेंट है -

बर्थ कंट्रोल पिल्स - यदि अगर बार-बार सिस्ट बन रहे है, तो डॉक्टर ओवुलेशन को रोकने और नए सिस्ट को बनने से रोकने के लिए गर्भनिरोधक दवाइयों की सलाह दे सकते है।

लेप्रोस्कोपी सर्जरी - लेप्रोस्कोपी सर्जरी से सिस्ट को हटाया और निकाला जा सकता है। यह सर्जरी तब करवाई जाती है जब आपकी गांठ छोटी हो। इसमें डॉक्टर नाभि के पास एक छोटा सा चीरा लगाते है और लेप्रोस्कोप की मदद से सिस्ट को बाहर निकाला जाता है।

लेपरोटॉमी सर्जरी- यदि सिस्ट का आकर बड़ा हो, तो उसे इस सर्जरी के माध्यम से नाभि के पास एक बढ़ा चीरा लगाकर बाहर निकाल दिया जाता है। यदि सिस्ट की वजह से गर्भाशय या अंडाशय में कैंसर फैलने का खतरा हो तो गर्भाशय और अंडाशय की सर्जरी कर इन्हें भी निकाल दिया जाता है।

ओवेरियन सिस्ट बावजूद गर्भधारण के लिए क्या करें?

ओवेरियन सिस्ट की समस्या के बावजूद भी महिला गर्भवती (Ovarian Cyst Pregnancy in Hindi) होना चाहती हैं, तो उन्हें एक फर्टिलिटी डॉक्टर के पास जाना चाहिए। वह आपको इंट्रायूटेरिन इनसेमिनेशन (IUI) के साथ ओव्यूलेशन इंडक्शन मेडिसिन शुरू करने की सलाह दे सकते हैं।
यदि IUI के बाद भी किसी कारण से गर्भधारण नहीं होता है, तो डॉक्टर इन विट्रो फर्टिलाइज़ेशन (IVF) की सलाह दे सकते हैं। सबसे पहले लेप्रोस्कोपी के द्वारा सिस्ट को निकाला जाता है और फिर आई वी एफ की प्रक्रिया की जाती है।
आई वी एफ - इस प्रक्रिया में अंडे को शुक्राणु के साथ लैब में निषेचित किया जाता है और निषेचन की प्रक्रिया के बाद जो भ्रूण बनता है उसे महिला के गर्भाशय में ट्रांसफर किया जाता है।

ओवेरियन सिस्ट बावजूद गर्भधारण की सफल कहानी

3 साल तक प्रयास करने के बाद भी मेरा गर्भधारण नहीं हो रहा था। कई जगह इलाज करवाने के बाद भी कुछ हासिल नहीं हुआ। एक दिन इंटरनेट पर प्रेगनेंसी ना होने के कारण के बारे में ढूंढ़ते हुए मुझे मेडिकवर फर्टिलिटी के बारे में पता चला और अगले दिन मैं वहां गई।

डॉक्टर से मिलने के बाद टेस्ट रिपोर्ट से पता चला मेरी ओवरी में सिस्ट होने के कारण मेरा गर्भधारण नहीं हो रहा था। फिर उन्होंने पहले लेप्रोस्कोपी से सिस्ट को निकाला और उसके बाद आई वी एफ के ज़रिये मेरा गर्भधारण हुआ। धन्यवाद मेडिकवर फर्टिलिटी!

ओवेरियन सिस्ट के बावजूद गर्भधारण के लिए मेडिकवर फर्टिलटी एक अच्छा विकल्प है।

मेडीकवर फर्टिलिटी यूरोप के सर्वश्रेष्ठ फर्टिलिटी क्लीनिकों में से एक है। यहाँ के डॉक्टर सभी तरह के ट्रीटमेंट करने के लिए आधुनिक उपकरणों का प्रयोग करते हैं। मेडीकवर फर्टिलिटी ने आई वी एफ और लेप्रोस्कोपी सर्जरी के संयोग से बहुत सी महिलाओं के माँ बनने के सपने को पूरा किया है।

मेडिकवर फर्टिलिटी में आर आई विटनेस (RI Witness) का प्रयोग किया जाता है। आई वी एफ लैब में होने वाली संभावित किसी भी प्रकार की गलतियों को रोकने में आरआई विटनेस से मदद मिलती है। इससे यह सुनिश्चित होता है की एम्ब्र्यो के लिए आपका ही सैंपल (एग और स्पर्म) का प्रयोग किया गया है। लोगों में आजकल इसके बारे में फिल्मों को देखने के बाद काफी जागरूकता बढ़ गई है। मेडिकवर फर्टिलटी में यह सुविधा पहले से ही उपलबध है, जिसका लाभ कई दम्पत्तियों को मिला है।

मेडीकवर फर्टिलिटी में आपकी जानकारी पूरी तरह गुप्त रखी जाती है। यदि आपको इस विषय से सबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप इस नंबर पर +917862800700 संपर्क कर सकते हैं।

FAQs

प्रश्न : क्या ओवेरियन सिस्ट में दर्द होता हैं? (Are ovarian cysts painful?)

उत्तर : हाँ, कुछ सिस्ट में दर्द महसूस हो सकता है इसलिए इसके लक्षणों को समझना और आवश्यक होने पर डॉक्टर से परामर्श करना बहुत महत्वपूर्ण है।

प्रश्न: क्या ओवेरियन सिस्ट बांझपन का कारण बन सकता है? (Can ovarian cyst cause infertility?)

उत्तर : हां, हालांकि यह सिस्ट के प्रकार पर निर्भर करता है। पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम से पीड़ित महिलाएं बांझपन का शिकार होती हैं क्योंकि उनमे एंड्रोजन के उच्च स्तर के कारण ओव्यूलेशन अनियमित हो जाता है।

प्रश्न : ओवेरियन सिस्ट का निदान कैसे किया जाता है? (How are ovarian cysts diagnosed?)

उत्तर : डॉक्टर एक नियमित पेल्विक टेस्ट से ओवेरियन सिस्ट का पता लगा सकते हैं। साथ ही अल्ट्रासाउंड के ज़रिये इसकी पुष्टि की जा सकती है।

References :

https://www.medicalnewstoday.com/articles/179031.php
https://blogs.webmd.com/womens-health/2008/03/my-ultrasound-found-an-ovarian-cyst.html
https://youngwomenshealth.org/2011/05/23/ovarian-cysts/
https://www.consultant360.com/articles/giant-ovarian-cyst-adolescent-pcos-0
http://www.radiologyassistant.nl/en/p4d85aa9a92bbb/diagnostic-work-up-of-ovarian-cysts.html
https://www.nhs.uk/conditions/ovarian-cyst/
https://www.littlethings.com/symptoms-of-ovarian-cysts/