Know Covid 19 and Some Important Things Related to Pregnancy in Hindi

कोविड-19 के प्रकोप से हम सभी अवगत है की किस तरह यह पुरे विश्व में महामारी का रूप ले चुका है और सभी देशों के लिए एक बड़ी चुनौती बना हुआ है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए कुछ ज़रूरी दिशा-निर्देश लागू किये जा रहे हैं। साथ ही इसके संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश में 21 दिनों की बंदी की घोषणा की है। यह जितना एक आम व्यक्ति के लिए हानिकारक है उसी तरह यह गर्भवती महिला के लिए भी हानिकारक है। हाल ही में डब्ल्यूएचओ ने कोरोना के खतरे को देखते हुए गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशु को सावधान रखने के लिए कहा है। गर्भवती महिलाओं के मन में इसे लेकर सवाल उठना बहुत ही आम है।

इसी विषय की गंभीरता को देखते हुए मेडिकवर फर्टिलिटी आई वी एफ क्लिनिक की स्त्रीरोग विशेषज्ञ डॉ स्वेता गुप्ता (मेडिकल डायरेक्टर) ने गर्भावस्था में कोरोना से जुड़े कुछ सवालों के जवाब देकर आपकी चिंता को दूर करने का प्रयास किया है।

प्रश्न: क्या गर्भवती महिला में कोरोना के संक्रमण होने की संभावना अधिक है?

उत्तर: अभी इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है की गर्भवती महिलाओं को आम जनता की तुलना में COVID-19 से बीमार होने की अधिक संभावना है या नहीं। सामान्य रूप से गर्भवती महिलाओं को अपने शरीर में परिवर्तन का अनुभव होता है और साथ ही उनकी इम्युनिटी भी कम होती है, जो उनमें कुछ संक्रमणों के जोखिम को बढ़ा सकता है। COVID -19, और अन्य वायरल संक्रमण, जैसे इन्फ्लूएंजा जैसे वायरस के साथ, महिलाओं में गंभीर बीमारी विकसित होने का खतरा अधिक होता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को इस बीमारी से बचाव के लिए अधिक सावधानी बरतने की ज़रूरत है।

प्रश्न: क्या कोरोना वायरस संक्रमित महिला से गर्भ में शिशु संक्रमित हो सकता है?

उत्तर अब तक इस बात का कोई प्रमाण नहीं मिल पाया है कि कोविड​​-19 संक्रमित महिला से गर्भ में शिशु संक्रमित हो सकता है। जैसा कि यह एक बहुत ही नया वायरस है जिसके बारे में हम अभी समझना शुरू कर रहे हैं। हालांकि, कुछ उपलब्ध सीमित अध्ययन में देखा गया है कि वायरस मां से भ्रूण तक या प्लेसेंटा को पार नहीं करता है। लेकिन अभी तक इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है।

प्रश्न: क्या गर्भवती महिला में कोरोना वायरस के लक्षण अलग होते हैं?

उत्तर: गर्भवती महिलाओं में इस वायरस से होने वाले लक्षण बाकि लोगो की तरह सामान्य ही होंगे। कोरोना वायरस के मुख्य लक्षण है खांसी, बुखार, सांस फूलना आदि। लेकिन अगर इंफेक्शन गंभीर स्तर पर पहुंच गया है, तो निमोनिया और सांस से जुड़ी दिक्कतें बढ़ सकती हैं और ऐसे में वेंटीलेटर की ज़रूरत पड़ सकती है।

प्रश्न: क्या कोविड-19 संक्रमण से बच्चे में जन्मजात दोष होने की संभावना बढ़ जाती है?

उत्तर: जैसा की कुछ उपलब्ध सीमित अध्ययन के अनुसार कि वायरस मां से भ्रूण तक या प्लेसेंटा को पार नहीं करता है। लेकिन अभी तक ऐसी कोई रिसर्च नहीं है जिसमें ये बात सिद्ध हो कि मां के कोरोना वायरस से संक्रमित होने से बच्चे पर असर पड़ता है।

प्रश्न: क्या कोविड-19 से संक्रमित महिला स्तनपान करा सकती है?

उत्तर: हाँ, WHO के अनुसार महिला स्तनपान करा सकती है। लेकिन नवजात शिशु को दूध पिलाने से पहले कुछ सावधानिया बरते जैसे मास्क जरूर पहनें। स्थन के आसपास अच्छे से साफ़ करें और बच्चे को छूने से पहले और बाद में साबुन व पानी से अपने हाथ जरूर धोएं।

प्रश्न: क्या कोविड-19 संक्रमण से गर्भपात के आसार बढ़ जाते हैं?

उत्तर: अभी तक इस बात की कोई जानकारी मौजूद नहीं है जिससे यह पता लग सके कि कोरोनो वायरस संक्रमण से गर्भपात या गर्भावस्था के नुकसान की संभावना बढ़ जाती है।

प्रश्न: गर्भवती महिला को कोविड -19 से बचाव के लिए क्या सावधानी रखनी चाहिए?

उत्तर: गर्भवती महिलाओं को अन्य लोगों की तरह ही COVID-19 संक्रमण से बचने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए। WHO द्वारा बताई गयी सावधानियों का पालन करें जैसे -

  • खाना खाने से पहले और शौचालय से पहले और बाद में हाथ साबुन से ठीक से धोएं।
  • एल्कोहल युक्त साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकेंड तक अपने हाथ धोएं।
  • खांसी-जुकाम से पीड़ित लोगों से दूर रहें।
  • अपनी आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें।
  • खासते और छीकते समय अपने मुँह को टिशू या रुमाल से ढकें।
  • ज़्यादा भीड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें और एक व्यक्ति से कम से कम दो मीटर की दूरी बनायें।
  • तेज बुखार, खांसी, जुकाम या सांस लेने में दिक्कत हो, तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें।