IUI kya hai

यदि कोई महिला माँ बनने में असफल होती है तो लोगों की धारणा के हिसाब से महिला में कमी मानी जाती हैं, लेकिन यह बात सच नहीं है। 30 % पुरुषों में भी कमी होती है और 30 % महिलाओं के अंदर कमी पाई जाती है, लेकिन 10-15% मामलों में दोनों साथियों में कोई कमी का पता ना लग पाना (Unexplained Infertility) भी माता-पिता के सुख से वंचित रखने का कारण हो सकता है। इस समस्या को अगर आपके जीवन में भी इसी तरह की कोई समस्या हैं तो डॉक्टर से जाँच करवाएं।

आई यू आई क्या है?

आई यू आई क्या है? (IUI Kya Hai)

कई डॉक्टर आई यू आई की सलाह देते हैं, वही कई लोगों का सवाल यह होता है कि आख़िरकार IUI क्या है? आई यू आई (IUI in Hindi) का अर्थ इंट्रायूटेरिन इनसेमिनेशन यानि अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान होता है। यह बाँझपन की समस्या के लिए सफल इलाज है। आई यू आई उपचार की प्रक्रिया की मदद से कई दम्पत्तियों को माता-पिता बनने का सुख मिला हैं।

इंट्रायूटेरिन इनसेमिनेशन की प्रक्रिया में शुक्राणु को सीधे गर्भाशय के भीतर कैथेटर की मदद से ट्रांसफर किया जाता है। जिससे निषेचन की संभावना बढ़ जाती है।

पुरुषों में बाँझपन के कारण

यह उपचार उन पुरुषों के लिए किया जाता है जो पिता बनने में असमर्थ होते हैं। पिता ना बनने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे-

  • असंतुलित हार्मोन्स
  • एस टी डी (सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज)
  • धूम्रपान या किसी भी तरह के अधिक नशे के कारण भी पिता बनने में समस्या आ सकती है।
  • शुक्राणुओं की संख्या में अधिक कमी जिसे अंग्रेजी में Low Sperm Count कहा जाता है।
  • सीमेन में शुक्राणुओं की उपस्थिति न होना जिसे अंग्रेजी में Azoospermia कहा जाता है।
  • शुक्राणुओं की गति की समस्या जिसे अंग्रेजी में Low Sperm Motility कहा जाता है।
  • शुक्राणुओं के आकार की समस्या को अंग्रेजी में Poor Sperm Morphology कहा जाता है।
  • शुक्राणुओं की गुणवत्ता की समस्या को अंग्रेजी में Low Quality Sperm कहा जाता है।
  • शुक्राणुओं सबंधी कोई अन्य समस्या इत्यादि।

आई यू आई कैसे होता है? (IUI Kaise Hota Hai in Hindi)

  • सबसे पहले इस प्रकिया में पुरुष का सीमेन लेकर लैब में भेजा जाता है।
  • लैब में सीमेन को मशीन की मदद से धोया जाता है। सीमेन धोने की प्रकिया में सक्रिय (अच्छे) व असक्रिय (बेकार) शुक्राणुओं को अलग कर दिया जाता है।
  • फिर सक्रिय(अच्छे) शुक्राणुओं में से सबसे अधिक सक्रिय(अच्छे) शुक्राणु का चयन करके, आगे की प्रक्रिया शुरू की जाती है।
  • सक्रिय शुक्राणु को कैथिटर (Catheter) जो एक विशेष लचकदार नली की तरह दिखता है, उसकी मदद से डिंबक्षरण (Ovulation) के समय महिला के गर्भाशय के भीतर रख दिया जाता है।
  • गर्भाशय के भीतर प्राकृतिक रूप से बाकि की प्रकिया होती है जिससे महिला अपना गर्भ धारण करती है।

आई यू आई के बाद गर्भ धारण कब होता है?

इस प्रक्रिया में शुक्राणु को महिला के गर्भाशय में ट्रांसफर किया जाता है। शुक्राणु के अंडे के साथ फर्टिलाइज़ होने के बाद गर्भाशय में प्रत्यारोपित होने पर गर्भधारण होता है।

यदि आई यू आई के बाद गर्भधारण नहीं होता होता है तो प्रेगनेंसी ना होने का कारण अंडे और शुक्राणु की ख़राब गुणवत्ता हो सकता है। हालाँकि, असफल आई यू आई के कोई विशिष्ट लक्षण नहीं हैं लेकिन ज़्यादातर मामलों में गर्भावस्था के नुकसान के लिए यही कारण है।

आई यू आई के बाद गर्भावस्था के लक्षण

आई यू आई प्रक्रिया के बाद गर्भावस्था के लक्षण सामान्य गर्भावस्था के सामान होते हैं जैसे -

  • सांस लेने में भारीपन महसूस करना
  • स्तनों में भारीपन महसूस होना
  • मतली व उल्टी होना
  • थकान महसूस होना
  • अधिक पेशाब का आना
  • पीठदर्द
  • ऐंठन
  • कब्ज़
  • स्वभाव बदलना

क्या आई यू आई गर्भावस्था सुरक्षित है?

आई यू आई गर्भावस्था उतनी ही सुरक्षित है जितनी एक प्राकृतिक गर्भावस्था है। आई यू आई गर्भावस्था में भी आपको प्राकृतिक गर्भावस्था जितना ख्याल रखना होता है और बिना किसी अन्य समस्या की तरह आप सभी कामकाज कर सकती है। जिन लोगों की यह धारणा है कि बच्चा अस्वस्थ होता है या किसी भी तरह की कोई कमी हो सकती हैं, तो यह केवल एक ग़लतफ़हमी है। आई यू आई गर्भावस्था में भी बच्चा प्राकृतिक गर्भावस्था जितना ही स्वस्थ होता है।

आई यू आई की सफल कहानी

कई कोशिशों के बाद भी शादी के 2 साल तक मेरा गर्भधारण नहीं हुआ। इसी कारण से मैं बहुत दुखी रहने लगी थी। फिर एक दिन यूट्यूब पर वीडियो देखने के बाद मुझे मेडिकवर फर्टिलिटी के बारे में पता चला।
उसके बाद हम अगले दिन वहाँ गए और डॉक्टर्स से मिले। डॉक्टर ने हमारे कुछ टेस्ट करवाएं। टेस्ट की रिपोर्ट के बाद उन्होंने हमें आई यू आई ट्रीटमेंट की सलाह दी।
उसके बाद हमारा इलाज शुरू हुआ। इलाज सफल रहा और मेरा गर्भधारण हो गया। इतने सालों का मेरा माँ बनने का सपना मेडिकवर फर्टिलिटी की मदद से पूरा हुआ। मेडिकवर फर्टिलिटी के सभी स्टाफ को मेरी ओर मेरे परिवार की ओर से दिल से धन्यवाद!

आई यू आई उपचार के लिए मेडीकवर फर्टिलिटी एक अच्छा विकल्प है।

मेडीकवर फर्टिलिटी यूरोप के सर्वश्रेष्ठ फर्टिलिटी क्लीनिकों में से एक है। यहाँ के डॉक्टर आधुनिक उपकरणों की सहयता से जाँच की प्रक्रिया करने में पूर्ण रूप से सक्षम हैं।

मेडीकवर फर्टिलिटी ने आई यू आई के कई सफल ट्रीटमेंट किए हैं जिनसे कई लोगों को माता-पिता बनने का सुख प्राप्त हुआ है। साथ ही मेडीकवर फर्टिलिटी में आपकी जानकारी पूर्ण रूप से गुप्त रखी जाती है। यदि आपको इस विषय से सबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप इस नंबर पर +917862800700 संपर्क कर सकते हैं।

नोट दम्पत्ति के प्राकृतिक गर्भधारण करने के प्रयासों में असफल होने के बाद सबसे पहले आई यू आई किया जाता है। यदि सीमेन धोने के बाद शुक्राणु की कमी और गति दोनों 10 मि.ली से कम है तो उस केस में आई यू आई नहीं किया जाता।

FAQs

प्रश्न : क्या आई यू आई के बाद गर्भावस्था में ब्लीडिंग होती है? (IUI Ke Baad Kya Pregnancy Me Bleeding Hoti Hai)

उत्तर : कुछ महिलाओं को गर्भधारण होने पर कभी-कभी हलकी ब्लीडिंग या स्पॉटिंग हो सकती है। यह सामान्य ब्लड स्पॉट से काफी हल्का होता है, इसको इम्प्लांटेशन ब्लडिंग कहते हैं।

प्रश्न : आई यू आई को सफल बनाने के लिए क्या करें? (IUI Success Tips in Hindi)

उत्तर: आई यू आई को सफल बनाने के लिए डॉक्टर कुछ दवाइयों की सलाह दे सकते है जिनसे अंडों के विकास में मदद मिल सकती है। साथ ही डॉक्टर द्वारा बताई गई सावधानियों का पालन करें।

प्रश्न: आई यू आई और आई वी एफ में क्या अंतर है? (What is the difference between IUI and IVF?)

उत्तर: आई यू आई में शुक्राणु को सीधे गर्भाशय में इंजेक्ट किया जाता है। आई वी एफ में अंडे को बहार निकालकर पुरुष के शुक्राणु के साथ लैब में फर्टिलाइज़ करने के बाद गर्भाशय में ट्रासंफर किया जाता है।